स्कूल जाने से पहले पेरेंट्स-टीचर्स के लिए जरूरी सलाह

देश में कोरोना की दूसरी लहर अब लगभग थम गई है। स्थिति सामान्य होती देख कई राज्यों ने स्कूलों को खोलने का फैसला कर लिया है। कोविड की मौजूदा स्थिति की बात करें तो फिलहाल रोजाना के मामले 40 हजार के आसपास बने हुए हैं। पंजाब और छत्तीसगढ़ ने स्कूल खोल दिए हैं, वहीं उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश 16 अगस्त से स्कूलों को फिर से खोलने की तैयारी में हैं। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच यह फैसला कितना सही और चुनौतीपूर्ण हो सकता है, इसे लेकर चर्चा जारी है। इन सबके बीच पेरेंट्स के लिए बच्चों की सुरक्षा और शिक्षा दोनों ही चिंता का विषय बनी हुई है।

भारत ही नहीं, अमेरिका और UK ने भी लंबे समय से बंद स्कूलों को दोबारा खोलने का फैसला किया है। ऐसे में अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च और शिक्षा निदेशालय की तरफ से बच्चों को स्कूल भेजने, स्कूल में पढ़ने और स्कूल से लौटने के बाद संक्रमण से बचाने के लिए कुछ जरूरी नियम बताएं गए हैं।

तो चलिए जानते हैं बच्चों को स्कूल भेजने से लेकर उनके घर लौटकर आने तक की एक कम्प्लीट गाइडलाइन…

  • यह सुनिश्चित करें कि बच्चे की नाक और मुंह पर मास्क अच्छी तरह लगा हो और उसका टेम्परेचर जरूर चेक करें।
  • बच्चे के स्वास्थ्य में किसी भी तरह का बदलाव या फिर तबीयत खराब होने पर उसे स्कूल न भेजें।
  • बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए जरूर कहें।
  • बच्चों को यह बात अच्छी तरह से समझाएं कि जरूरी होने पर ही मास्क उतारें और मास्क किसी भी वजह से अगर गीला हो जाए तो उसे तुरंत बदल दें।
  • बच्चे मास्क तभी उतारें जब आस-पास 6 फीट की दूरी पर कोई न हो और मास्क को हाथ लगाने से पहले और बाद में हाथ सैनिटाइज जरूर करें।
  • बार-बार हाथ धोने और सैनिटाइज करने के लिए जरूर कहें।
  • बच्चे स्कूल की संकरी गैलरी या फिर भीड़-भाड़ वाले रास्ते से न गुजरें।
  • बच्चे का मास्क नाक और मुंह को अच्छी तरह कवर करने वाला हो, अगर जरूरत पड़े तो उन्हें मास्क उतारकर सांस लेने दें, लेकिन जब उनके आस-पास 6 फिट तक कोई न हो।
  • बच्चों को हाइजीन का ख्याल रखने और समय-समय हाथ धोने के लिए कहें।
  • स्कूल में ऐसी कई कलेक्टिव एक्टिविटीज होती हैं जहां कई बच्चे एक साथ हिस्सा लेते हैं, जैसे स्पोर्ट्स, लेबोरेटरी क्लास, प्रोजेक्ट वर्क। टीचर्स ऐसी एक्टिविटी करवाने से बचें और अगर करवाएं तो कोरोना प्रोटोकॉल जरूर फॉलो करें।
  • स्टूडेंट स्कूल लैबोरेटरी के टूल्स इस्तेमाल करने के पहले और बाद में सैनिटाइज जरूर करें।
  • किसी स्टूडेंट या स्कूल स्टाफ की तबीयत खराब होने पर उन्हें घर भेज दें, क्योंकि कोरोना वायरस उन सभी लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक है जो किसी बीमारी से पीड़ित हैं, बुजुर्ग हैं या जिनकी इम्यूनिटी बहुत कमजोर है।
  • सभी प्रमुख स्थानों जैसे क्लास रूम, वॉशरूम, पार्किंग, एंट्री और एग्जिट पर कोरोना प्रोटोकॉल वाले पोस्टर लगाए जाएं।
  • वॉशरूम हाइजीन भी जरूरी है, इसलिए इस्तेमाल करने के बाद सैनिटाइज जरूर कराएं।
  • टीचर्स इस बात का खास ख्याल रखें कि बच्चे एक-दूसरे से 6 फीट की दूरी बनाकर रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *