देश के किस राज्य में कब खुलेंगे स्कूल..

देश में कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के साथ ही कई राज्यों ने स्कूल खोलने की घोषणा करनी शुरू कर दी है. एम्स के निदेशक ने भी बच्चों के स्कूल खोलने की वकालत की है.

नई दिल्ली. देश में जैसे-जैसे कोरोना की दूसरी लहर कमजोर पड़ रही है राज्य सरकारें छूट का दायरा भी बढ़ाती जा रही हैं. इस बीच, कई राज्यों ने स्कूल खोलने का फैसला किया है. ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के डायरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी स्कूल खोलने की वकालत की है.

गुलेरिया शुक्रवार को कहा कि जिन इलाकों में कोविड संक्रमण दर कम हैं वहां स्कूल फिर खोले जा सकते हैं. उन्होंने कहा कि स्कूलों का खोलना अहम है. यह बच्चों के सामाजीकरण की दृष्टि से भी जरूरी है. वहां बच्चे सामाजिक क्रियाकलाप, साथियों के साथ कैसे बर्ताव करना है यह भी सीखते हैं. ऑनलाइन क्लासेज उन कमियों की भरपाई नहीं हो सकती है. आइए जानते हैं अभी तक किन-किन राज्यों में स्कूल खोलने को लेकर हो चुका है फैसला..

हिमाचल प्रदेश
राज्य सरकार ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 2 अगस्त से 10वीं से 12वीं कक्षा तक के रेजिडेंशियल और आंशिक रूप से रेजिडेंशियल स्कूलों को फिर से खोलने का ऐलान किया है. उधर, कक्षा 5 और 8 के छात्रों को इसी तारीख से पढ़ाई से संबंधित चीजों को पूछने के लिए स्कूल आने की इजाजत दी गई है.

छत्तीसगढ़
भूपेश बघेल सरकार ने भी उच्च माध्यमिक स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को 2 अगस्त से खोलने का फैसला किया है. हालांकि, इस दौरान केवल 50% उपस्थिति की ही अनुमति होगी. कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया है. फैसले के अनुसार, छात्र एक दिन छोड़कर क्लास में आ सकते हैं. हालांकि इस दौरान सभी स्ट्रीम के लिए ऑनलाइन क्लासेस भी जारी रहेंगी. इसके अलावा जो भी छात्र स्कूल आएंगे उन्हें अपने अभिभावक से लिखित अनुमति लेनी होगी.

दिल्ली
दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कहा कि स्कूलों को खोलने के लिए आदर्श स्थिति तो वैक्सीनेशन के बाद ही है. दूसरे राज्यों में स्कूल खोले जा रहे हैं, उनका अनुभव अच्छा रहा तो हम कुछ दिन में देखते हैं. सीएम ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा को लेकर पैरेंट बहुत चिंतित है.

गुजरात
गुजरात सरकार ने 26 जुलाई से 9-11वीं तक के स्कूल को खोलने का फैसला किया है. हालांकि, इस दौरान केवल 50 फीसदी छात्रों को ही स्कूल आने की अनुमति होगी. जो भी छात्र स्कूल आएंगे उन्हें अपने माता-पिता से लिखित अनुमति लेनी होगी.

पंजाब
पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार ने भी 26 जुलाई से 10-12वीं तक के स्कूल खोलने का फैसला किया है. स्कूल में उन्हीं शिक्षकों और स्टाफ को आने की अनुमति होगी जो कोरोना वैक्सीन का दोनों डोज ले चुके हैं. स्कूल में वही छात्र आ सकते हैं जिनके माता-पिता इसके लिए अनुमति देंगे.

मध्य प्रदेश
मध्य प्रदेश में भी 26 जुलाई से स्कूल खोलने का फैसला किया गया है. 11-12 वीं तक के स्कूल खुल जाएंगे. कोरोना के हालात को देखते हुए बाद में निचली कक्षा के स्कूल को खोलने की तैयारी की जाएगी. हालांकि एक दिन छोड़कर की छात्र स्कूल आ पाएंगे.

पश्चिम बंगाल
पश्चिम बंगाल में अभी किसी भी स्तर पर स्कूल खोलने का फैसला नहीं किया गया है. जब भी स्कूल खोले जाने का फैसला किया जाएगा, सबसे पहले सीनियर क्लास के स्कूल खोले जाएंगे. हालांकि, आने वाले दिनों सरकार के स्तर पर इसपर फैसला किया जाएगा.

आंध्र प्रदेश
आंध्र प्रदेश में 16 अगस्त से स्कूल खोलने की तैयारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *